X

Gandhi Jayanti Poems in hindi । Poem on gandhiji in hindi । गांधी जयंती पर कविता

Poem on gandhiji in hindi । poem on bapu । gandhi jayanti poems in hindi । gandhi jayanti par hindi kavita । hindi poem on gandhi jayanti । Gandhi Jayanti

Read More- Happy Gandhi jayanti images

Gandhi jayanti poems in hindi । Poem on gandhiji in hindi

बापू महान, बापू महान

बापू महान, बापू महान!
ओ परम तपस्वी परम वीर
ओ सुकृति शिरोमणि, ओ सुधीर
कुर्बान हुए तुम, सुलभ हुआ
सारी दुनिया को ज्ञान
बापू महान, बापू महान!!
बापू महान, बापू महान
हे सत्य-अहिंसा के प्रतीक
हे प्रश्नों के उत्तर सटीक
हे युगनिर्माता, युगाधार
आतंकित तुमसे पाप-पुंज
आलोकित तुमसे जग जहान!
बापू महान, बापू महान!!
दो चरणोंवाले कोटि चरण
दो हाथोंवाले कोटि हाथ
तुम युग-निर्माता, युगाधार
रच गए कई युग एक साथ ।
तुम ग्रामात्मा, तुम ग्राम प्राण
तुम ग्राम हृदय, तुम ग्राम दृष्टि
तुम कठिन साधना के प्रतीक
तुमसे दीपित है सकल सृष्टि ।

Read More- Happy Gandhi Jayanti Wishes In Hindi

Gandhi jayanti par hindi kavita

जन्मदिवस बापू का आया

जन्मदिवस बापू का आया
सारे जग ने शीश नवाया

यह जीवन की शिक्षा का दिन
पावन आत्मपरीक्षा का दिन
मानवता की इच्छा का दिन
जगती का कण-कण हर्षाया
जन्मदिवस बापू का आया

जिसने खुशियाँ दी जीवन को
कोटि-कोटि दलित जनों को
सरल कर दिया जीवन रण को
ऊँच-नीच का भेद मिटाया
जन्मदिवस बापू का आया
जन्मदिवस बापू का आया

सत्य प्रेम का पथ अपना कर
क्षमा, कर्म के भाव जगा कर
स्वर्ग उतारा था वसुधा पर
युग का था अभिशाप मिटाया
जन्मदिवस बापू का आया

आज तुम्हारी मीठी वाणी
गूँज रही जानी पहचानी
अमर हुए तुम जीवन-दानी
घर-घर नव प्रकाश लहराया
जन्मदिवस बापू का आया

तुमने अपना आप गँवाकर
दानवता के बाग़ मिटाकर
सबके आगे माथ झुकाकर
मानवता का मान बढाया
जन्मदिवस बापू का आया

hindi poem on gandhi jayanti

आओ अपराधी को हम प्यार दें…

आओ
अपराधी को हम
प्यार दे
घृणा नहीं
और जीतने दें प्यार को
कर लेने दें फैसला उसे
हमारे भाग्य का
जानते हो-
किसी पड़ोसी से प्यार करना
कला श्रेष्ठतम है
सम्मान दो प्यार को
उन्मुक्त मन से
मेरे प्रिय बन्धु.

Read More- 

Poem on gandhiji in hindi । Poem on bapu । Gandhi jayanti poems in hindi । gandhi jayanti par hindi kavita । hindi poem on gandhi jayanti । Gandhi Jayanti

Technicalworld:

View Comments (1)