PAN और TAN क्या है? Difference Between PAN and TAN in hindi

PAN और TAN क्या है? Difference Between PAN and TAN in hindi

PAN और TAN क्या है? – Income Tax वसूलने या जमा करने और फिर Return भरने में PAN Number और TAN Number की आवश्यकता पड़ती हैं. वास्तव में Tax Collection को सही तरीके से Manage करने के लिए Income Tax Department की ओर से प्रत्येक individual के लिए PAN और TAN नबंर जारी किया जाता है। यहां आपको बता दें कि दोनों का इस्तेमाल अलग-अलग तरीके से TAX जमा करने के लिए होता हैं। आज हम इस Article में विस्तार से जानेंगे कि PAN और TAN होते क्या हैं? PAN व TAN किस तरह बनवाए जाते हैं? और दोनों के बीच अंतर क्या हैं?

difference between pan and tan

What Is PAN Number? PAN नंबर क्या होता है?

PAN (Permanent account number) एक स्थायी खाता संख्या होती है। यह स्थायी खाता संख्या (Permanent account number) प्रत्येक व्यक्ति के टेक्स व Financial Transactions का रिकार्ड रखने के लिए प्रयोग होता है।

PAN Number की विशेषताएं। Features of PAN number in Hindi

    • पैन कार्ड में एक अल्फान्यूमेरिक 10 अंको की संख्या होती हैं जो कि आयकर विभाग द्वारा निर्धारित की जाती है. यह प्रत्येक व्यक्ति को Unique identification number के रूप में उपलब्ध करायी जाती है।
    • PAN Number धारक व्यक्ति की ओर से हुए सभी प्रकार के Tax payment जैसे TCS, TDS, Advanced Tax व Assessment Tax आदि लेन-देन के रिकॉर्ड उसके PAN नंबर आधारित टैक्स खाते में जमा होंगे।
    • बेसिक वचत खातों (BSBA) को छोड़कर सभी प्रकार के बैंक खातों (Bank Account) के लिए या निवेश योजनाओं (Investment Schemes) में शामिल होने के लिए PAN नंबर अनिवार्य कर दिया गया हैं यहां तक कि एक निश्चित धनराशि (सामान्यतः 50 हजार रूपये) से ज्यादा के लेन-देन(Transactions ) को पैन कार्ड के आगे दर्ज करना जरूरी हो गया हैं।
    • PAN का उपयोग केवल Income Tax संबंधी कार्यों तक सीमित नहीं है, चूंकि PAN Card  में Photo, नाम व हस्ताक्षर होने की वजह से इसे सभी प्रकार की सरकारी व प्राइवेट संस्थानों की ओर से किसी भी व्यक्ति की व्यक्तिगत पहचान संबंधी कागजात (Personal ID Document) के रूप में भी मान्य किया गया हैं।
    • वर्तमान में सभी प्रकार के बैंको में खाता खुलवाने के लिए PAN Card जरूरी हो गया हैं।

    Who Can Apply For PAN Card? पैन कार्ड के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

    मुख्यतः PAN Number जारी करने का उद्देश्य केवल सभी करदाताओं (Taxpayers) को individual अलग-अलग पहचान नंबर देने का था. जिससे प्रत्येक व्यक्ति का Tax Record उसके Tax Account में रहे. ताकि टेक्स सिस्टम को और अधिक सुविधाजनक व व्यवस्थित तरीके से संचालित किया जा सके। वर्तमान में PAN नबंर को प्रत्येक व्यक्ति या संस्था को जारी कर दिया जाता हैं जो इसके लिए आवेदन करता हैं। प्रत्येक व्यक्ति या संस्था का जीवन पर्यंत उसका PAN नंबर एक ही रहता हैं.

    Where To Apply For PAN Card?  पैन कार्ड के लिए आवेदन कहां करें?

    PAN Card बनवाने के लिए आप सरकार द्वारा निर्धारित की गई दो एजेंसियां (NSDL या UTIISL) को आवेदन करके Pan number जारी करवा सकते हैं. ये एजेन्सियां Offline या online दोनों तरीकों से PAN Car or PAN number के लिए आवेदन प्राप्त करती हैं और इसके उपरांत पैन कार्ड जारी कर देती हैं.

    What Is TAN Number? टैन नंबर क्या है?

    टैक्स डिडक्शन एंड कलैक्शन एकाउंट नंबर (Tax deduction and collection Account Number) जिसे हम उसके संक्षिप्त रूप TAN से जानते हैं। यह एक टैक्स काटने या उसे एकत्र करने का खाता नंबर होता हैं। TAN उन लोगों के लिए होता हैं जो कुछ विशेष तरह के सौदों पर टैक्स काटने के लिए अधिकृत होते हैं। जब कोई व्यक्ति या संस्था किसी को जब एक निर्धारित राशि से अधिक राशि का भुगतान करती हैं तो उस भुगतान में से पहले टैक्स काटकर अलग कर लेती हैं और बाकी धनराशि भुगतान कर देती हैं. इस प्रकार से काटा गया टैक्स वह भुगतान लेने वाले टैक्स एकाउंट में ही सरकार के पास जमा कर देती हैं।

    Features of TAN Number टैन नंबर की विशेषताएं.

    PAN Card की तरह TAN भी एक प्रकार की (unique identification number) होती हैं. जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग और एक ही हो सकती है।

    प्रत्येक टैक्स काटने वाले (Tax Deductor) या टैक्स एकत्र (Tax Collector)  करने वाले व्यक्ति के पास चाहे भले ही उसके पास PAN पहले से मौजूद हो फिर भी TAN होना जरूरी होता है.

    TAN Number का निम्न मालमों में दर्ज करना जरूरी होता है-

    • सरकार के पास TDS या TCS जमा करने के लिए चालान फार्म में.
    • TDS या TCS संबंधी रिटर्न दाखिल करने में.
    • Important सौदों के संबंध में एआईआर रिपोर्ट (Annual Information Return) को दाखिल करने में.
    • TDS या TCS काटने के उपरांत उसका सर्टिफिकेट जारी करने में।
    • अन्य जरूरी कागजात में जहां टैन नंबर का उल्लेख करना आवश्यक हो.

    टैन कार्ड किसके लिए होता है? What is the tan card for?

    TAN Card  निम्न लोगों के पास होना जरूरी होता है-

    • केन्द्र सरकार (Central) राज्य सरकार (State Government) या स्थानीय स्तर की संस्थाएं (Local Authority) जो ठेका या जॉब वर्क के बदले भुगतान करती हैं उनके पास TAN का होना बहुत जरूरी होता है।
    • वैधानिक या स्वायत्ता का अधिकार रखने वाली संस्थाओं के पास.
    • किसी कंपनी की शाखा के पास.
    • कंपनी एक्ट के तहत स्थापित संस्था के पास.
    • व्यक्तिगत या एचयूएफ व्यवसाय की शाखा के पास.
    • पंजीकृत फर्म, कृत्रिम विधिक, एसोसिएशन व्यक्ति के रूप में मान्य संस्था की शाखा के पास.

    Penaulty On Not giving TAN Number । टैन नंबर न देने पर 10 हजार जुर्माना

    आयकर विभाग के अधिनियम 1961 के अनुभाग 203ए के मुताबिक कोई भी व्यक्ति जो टीडीएस का भुगतान कर रहा है, उसके पास टैन नंबर होना अनिवार्यहैं. टैन नंबर आयकर विभाग द्वारा 10 अंकों की अल्फान्यूमेरिक नंबर के रूप में दिया जाता है. यदि वह ऐसा नहीं करता हैं तो आयकर विभाग के द्वारा उन्हे 10,000 रूपेय जुर्माना भरना पड़ सकता हैं.

    इसके अतिरिक्त आयकर विभाग के अधिनियम की धारा 194IA के अनुसार, कुछ अचल संपत्तियों को बेचने या हस्तांतरण पर टीडीएस काटना अनिवार्य होता हैं, लेकिन इन मामलों में टीडीएस के ले टैन नंबर के बजाय PAN नबंर को होना जरूरी होता है.

    Difference between PAN and TAN । पैन और टैन के बीच में मुख्य अंतर

    PAN और TAN दोनों 10 अंको के unique identification number होते हैं और दोनों को आयकर विभाग द्वारा ही जारी किया जाता हैं. लेकिन इन दोनों के उपयोग के बीच अंतर होता जिसे जानते हैं-

    Difference In Eligibilities । आवेदक की पात्रता मे अंतर

    PAN हर उस व्यक्ति को जारी किया जाता हैं जिसको देश के संसाधनों से Income होती हैं, चाहे उसकी आय टैक्स जमा करने की कैटेगरी में आती हो या नहीं. इसके साथ एक बेसिक टैक्स की छूट की सीमा से अधिक आय वाले व्यक्तियों के लिए PAN number रखना जरूरी होता हैं.

    जबकि TAN केवल उन व्यक्तियों या संस्थाओं को जारी किया जाता हैं जो वित्तीय लेन-देन पर टैक्स Collect करने या टैक्स Deduct करने के योग्य होते हैं.

Leave a Comment

Discover latest Indian Blogs