X
    Categories: Education

Tatpurush Samas:-तत्पुरुष समास के भेद, परिभाषा एवं उदाहरण

Tatpurush Samas की परिभाषा

उत्तर पद प्रधानः तत्पुरुषः

वह समास जिसमे अन्तिम पद प्रधान होता है तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) कहलाता है।
तत्पुरुष समास मे कारक चिन्हो का लोप होता है तथा हम जिस कारक विभक्ति चिन्ह का प्रयोग करते है वह उसी विभक्ति का तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) बन जाता है।

तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) के भेद

विभक्तियों के नामो के अनुसार छह भेद है-

1.कर्म तत्पुरुष (द्वितीया तत्पुरुष समास)

ग्रामगत = गॉव को गया
गगनचुंवी = गगन को छूने वाला
संगीतज्ञ = संगीत को जानने वाला
यशप्राप्त = यश को प्राप्त
रथचालक = रथ को चलाने वाला

2.करण तत्पुरुष (तृतीया तत्पुरुष समास)

रोगग्रस्त = रोग से ग्रस्त
आचारकुशल = आचार से कुशल
मुहमांगा = मुह से मांगा
मदांध = मद के द्वारा अंधा
मनचाहा = मन से चाहा

3.संप्रदान तत्पुरुष (चतुर्थी तत्पुरुष समास)

देशभक्ति = देश के लिए भक्ति
क्रीङास्थल = स्थल क्रीङा के लिए
राहखर्च = खर्च राह के लिए
लोकहितकारी = हित लोक के लिए
स्नानघर = स्नान के लिए घर

4.अपादान तत्पुरुष (पंचमी तत्पुरुष समास)

जन्मान्ध = जन्म से अन्धा
रक्तहीन = रक्त से हीन
देशनिकाला = देश से निकाला
बन्धनमुल्क = बन्धन से मुक्त
धनहीन = धन से हीन

5.संबंध तत्पुरुष (षष्ठी तत्पुरुष समास)

पराधीन = दूसरो के आधीन
कन्यादान = कन्या का दान
राष्ट्रपति = राष्ट्र का पति
गीतावली = गीतो की अवली
राजपुत्र = राजा का पुत्र

6.अधिकरण तत्पुरुष (सप्तमी तत्पुरुष समास)

आपवीती = आप पर वीती
रणकुशल = रण मे कुशल
जलमग्न = जल मे मग्न
लोकप्रिय = लोक मे प्रिय
पुरुषोत्तम = पुरुषो मे उत्तम

हिन्दी समास:-Samas in Hindi Full Detail with Examples

Avyayibhav Samas:- अव्ययीभाव समास की परिभाषा एवं उदाहरण

100+ Good Night images Shayari:- गुड नाइट शायरी HD फोटो in Hindi

Rahul Pal: